Poetry

नींद आती नहीं

वो तब भी कुछ ओर थे,
ओर अब भी कुछ ओर है।
वो हमे जाने नहीं,
ओर हम उन्हे पहचाने नहीं।

बढ़ाते रहें कुछ इस तरह,
हम जिन्दगी का सफर।
जिसमे उसने कुछ खोया नहीं,
ओर हमने कुछ पाया नहीं।

भरी उड़ान हमने भी,
उस पंछी की तरह।
उसने कोई राह सोची नहीं,
ओर हम कहीं पहोचे नहीं।

दर्द कि आवाज पहुँच जाए,
पत्तर का सीना भी चिर कर।
पर उसने कुछ सुना नहीं,
ओर हमने कुछ कहा नहीं।

देखेगे ख्वाब हम भी,
नुर-ऐ-परछाई का।
पर उसकी नींद जाती नहीं,
ओर हमे नींद आती नहीं।

Advertisements
Poetry

ऐसे में तेरी याद बहुत आती है

वो छम-छम सी झन्कार
जैसे पायल कि आवाज
वो बारीस कि फुआर
संगीत कोई सुनती है
बिजली बिगुल कोई बजाती है
वो सोन्धी सोन्धी सी महक
रुह मे कही बस जाती है
ऐसे में तेरी याद बहुत आती है
अब नया सा है हर ओर
धुला सा है भोर
गुम हो गए है सोर
सन्टा है हर ओर
कही से होरन कि आवाज आती है
चिडिया भी चीं-चीं चिलाती है
पत्ते से एक बुन्द
हथेली पर गिर जाती है
ऐसे में तेरी याद बहुत आती है।

Poetry

दिन वो खो जाते है

दिन वो खो जाते है
पल न वो लोट पाते है
पुरानी तस्वीरो सी
बस वो यादें रह जाती है
यादों  पे कोहरा सा होता है
भुत पे वर्तमान का पेहरा होता है
ओर जब तु साथ होता है
वही जिन्दगी फिर
जीने का मन होता है
एक-एक पल फिर
जवा सा होता है
जब तु साथ होता है
पर दिन वो खो जाते है
पल न वो लोट पाते है

Poetry

इबादत कि कस्म

फिर मिलना था शायद
ये ऎसा ही लिखा था
उलछने सुलछेगी
ऎसा न सोचा था
चाहा था तुझे
जिस शिद्दत से
उस इबादत कि कस्म
तुझे पाने का
तब भी न सोचा था
तेरी खुशी में
खुशी ढूंढी मैने
इससे ज्यादा मेरा
कोई इरादा न था
आज मिल कर
फिर चले जाये शायद
पर तुझे तन्हा देखने का
ये बहाना न था

Poetry

जवाब

हम वहीं है जहाँ तब थे खड़े
तुम ही पास से गुजर गये
एक बार मिलने कि दुआ
माँगी उस रब से ओर
तुम्हारे रास्ते इधर से निकल गये
दोश न देना तुम हमे
हम ऎसा न चाहते थे
ढूंढे जो जवाब बरसो
वो हमे अब मिल गये
गिला न होगा
चाहे भुला भी देना
अब  तुम हमें|

Poetry

होती नही बारीशे

बहुतो ने कि खुहासे
बहुतो ने कि फरमाइशें
क्या पता किसे मिल जाए
हमारी चाहते
जाने कब हो जाये
प्यार कि बारीशे |
सोते रहे जाग कर भी
हँसते रहे सब जान कर भी,
हमे मिला इसका सिला
तालाब अब ये सुखा पड़ा
यहाँ होती नही बारीशे
मोर के नाचने कि फरमाइशें।

Poetry

जिंदगी

जिंदगी ओर कहाँ ले जाएगी
यहाँ लाने के बाद
ओर कितना सताएगी
इतना रुलाने के बाद
लगता है…
इसको बनाने वाला भी नही जानता
क्या चहाता है
मेरी जिंदगी के साथ
रास्तो को दिखाता है
कई तुफानो के बाद
अचानक नया मोड ले आता है
एक ठेराओ के बाद