Poetry

तू यूँ खफा न होता

हँसते है हम
जब तू रोता है
पर हम हँसते है
क्यों की
तुम कहते थे
तुम हँसती हो तो
मैं सब गम भूल जाता हूँ
इतनी बात जान ली होती
तू यूँ खफा न होता

Advertisements